लखनऊ: उत्तर प्रदेश में जहां बीजेपी के सरकार के सत्ता में आते ही कई शहरों की पुलिस अपने आप ही एक्शन में आ गई है और सड़क किनारे खड़े शोहदों, पार्कों में बैठे जोड़ों, लड़कियों के स्कूल कॉलेजों के सामने खड़े मनचलों पर कार्रवाई शुरू हो गई. कारण साफ था कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सत्ता में आते ही कह दिया था कि महिलाओं की सुरक्षा उनकी प्राथमिक जिम्मेदारियों में से एक है. उन्होंने कहा था कि चुनाव के दौरान किए गए एंटी रोमियो स्क्वॉड का गठन किया जाएगा और लड़कियों को सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी.

यूपी पुलिस के महानिदेशक जावीद अहमद ने पुलिस की हालिया कार्रवा के बाद बुधवार को निर्देश जारी किया है. उन्होंने कहा कि महिलाओं और बालिकाओं की सुरक्षा के लिए जिलों में ‘एंटी रोमियो स्क्वायड’ बनाए गए हैं. इसके तहत अधिक से अधिक संख्या में महिला कांस्टेबल की ड्यूटी सादे कपड़ों में लगायी जाये जो सही सूचना दे सकें कि किन स्थानों पर और किन शोहदों द्वारा आपत्तिजनक हरकतें की जा रही हैं? उन्होंने कहा कि ऐसे चिह्नित शोहदों के विरुद्घ विधि के अन्तर्गत प्रभावी कार्यवाही की जाए.

उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाये कि कार्यवाही करते समय बाल कटवा देने, कालिख पुतवा देने, मुर्गा बना देने जैसी कार्यवाही न की जाये जिसका कोई विधिक आधार नहीं है. अगर कोई व्यक्ति बार-बार लड़कियों से छेड़छाड़ जैसी हरकतें करता है, तो उसको सामाजिक रूप से लज्जित करने के लिए कार्यवाही करने पर विचार किया जा सकता है.

अहमद ने स्पष्ट किया कि ‘एंटी रोमियो स्क्वायड’ केवल ऐसे व्यक्तियों के विरुद्घ कार्य करेगा, जो राह चलते बालिकाओं और महिलाओं को किसी भी प्रकार से परेशान करते हैं. यह किसी भी दशा में ऐसे जोड़ों या व्यक्तियों के विरुद्घ कार्यवाही नहीं करेगा, जो सामाजिक परंपराओं के दायरे में रहते हुए आपस में पार्क, मॉल, काफी हाउस, सिनेमाघर आदि में मिल-जुल रहे हों.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here