आप सभी का स्वागत है वैश्य समाज में 

मित्रो नमस्कार, मेरा यह ब्लॉग सर्ववर्गीय, सर्वजातीय वैश्य समाज को समर्पित हैं. इस चिट्ठे में मैंने २५ करोड़ वैश्य समाज की जातियों, उनका इतिहास, उत्पत्ति, उनके महापुरुष, उनके गोत्र आदि का वर्णन करने की कोशिश की हैं. मित्रो हमारे वैश्य समाज के अंतर्गत करीब ३५६ जातिया आती हैं. इनकी  जानकारी हम अधिकतर लोगो को नहीं हैं. हमारा वैश्य समाज इस देश का वेल्थ क्रिएटर हैं. इस देश के ८५% व्यवसाय, उद्योग धंधे आदि पर वैश्य समुदाय का अधिकार हैं. इस देश का ९०% टैक्स वैश्य समुदाय देता हैं. धर्म कर्म, समाज कल्याण, मंदिर, तीर्थ स्थान, धर्मशालाए, स्कूल – कालेज ये सब ९० % वैश्य समुदाय द्वारा ही पोषित हैं. मित्रो हमारा एक सुनहरा युग रहा हैं. चन्द्रगुप्त मौर्य, अशोक, चन्द्रगुप्त प्रथम, समुद्रगुप्त, चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य, स्कंदगुप्त, कुमार गुप्त, परवर्ती गुप्त वंश के शासक, हर्षवर्धन, हेमू विक्रमादित्य आदि हमारे  गौरव हैं. मेरा उद्देश्य समस्त वैश्य समाज को एक प्लेटफोर्म पर लाना हैं. गुप्त काल का ३५० वर्ष का इतिहास इस देश का स्वर्णकाल रहा हैं. आज हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र भाई मोदी भी एक वैश्य ही हैं जोकि मोध घांची- तेली वैश्य समुदाय से सम्बंधित हैं.और वैश्य समाज के बारे जो भ्रान्तिया वैश्यों और दूसरी  जातियों में फैली हुई है, उसे दूर करना हैं.इस ब्लॉग में प्रकाशित सामग्री  मैंने विभिन्न पत्र पत्रिकाए, वेब साईट, पुस्तकों आदि से ली हैं. यदि आप लोगो के पास भी अपने वैश्य समाज के बारे में कोई जानकारी हैं तो मुझे भेजे. मित्रो भगवान् विष्णु, माता लक्ष्मी हम सभी वैश्य समाज के बंधुओ के माता व पिता हैं. अपने पूजा स्थान में भगवान् विष्णु, व माता लक्ष्मी का चित्र अवश्य लगाए. इसके साथ साथ अपने कुलपुरुष व कुलदेवी का चित्र भी अवश्य लगाए. अपने कीमती सुझाव इस ब्लॉग के बारे में मुझे भेजे, जिससे में इसमें और सुधार कर सकू. ये ब्लॉग लगातार अपडेट हो रहा हैं. अपने मित्रो व मिलने वालो को इसके बारे में बताये. इस ब्लॉग को प्रकाशित करने का मेरा उद्देश्य केवल सामाजिक हैं. कोई भी व्यावसायिक या व्यापारी उद्देश्य मेरा नहीं हैं. धन्यवाद, वन्देमातरम..